August 4, 2022



डिजिटल डेस्क, मुंबई। बॉलीवुड के हिट फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली गायक केके के निधन की खबर सुनकर सदमे में हैं। उन्होंने एक मीडिया साक्षात्कार में दिवंगत गायक के साथ काम करने के अपने अनुभव के बारे में बात की।

भंसाली ने कहा, केके इस तरह कैसे गिरकर मर सकते हैं। क्या प्रतिभा थी, क्या गायक थे! उनकी आवाज में एक समर्थक की ताकत थी।

जैसा कि पहले ही आईएएनएस ने पहले ही खबर दी थी, केके 31 मई को कोलकाता के नजरूल मंच में एक कॉलेज उत्सव के लिए प्रस्तुति देने के बाद उस होटल में गए, जहां वह ठहरे थे। वहां उन्होंने बेचैनी की शिकायत की और बेहोश होकर गिर गए। उन्हें कलकत्ता मेडिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित किया गया।

तड़प तड़प के गाना जैसा कि केके के सभी प्रशंसक जानते होंगे, 1999 की हिट फिल्म हम दिल दे चुके सनम में सलमान खान और ऐश्वर्या राय पर फिल्माया गया था।

भंसाली ने आगे कहा, इस्माइल ने कहा कि यह केके नाम के एक गायक की आवाज थी और उसने विशाल भारद्वाज के लिए छोड़ आए हम वो गलियां गाना गाया था। मैंने इस्माइल से कहा कि मुझे तड़प तड़प के गाना बहुत पसंद है। लेकिन आवाज बनी रहनी चाहिए। मैं कल्पना नहीं कर सकता था कि कोई और तड़प तड़प के गाएगा।

इसके बाद फिल्म निर्माता ने केके की आवाज की गुणवत्ता के बारे में बात की। उन्होंने कहा, केके एक पूर्ण गायक थे। उनकी रेंज और वॉयस-थ्रो उत्कृष्ट थे। उन्होंने मात्रा के बजाय गुणवत्ता पर ध्यान देना पसंद किया।

इसके बाद उन्होंने देवदास के लिए केके के साथ काम करने का अपना अनुभव साझा किया।

उन्होंने बॉलीवुड हंगामा को बताया, उन्होंने देवदास में केवल कुछ आलाप गाए। लेकिन मेरी फिल्म गुजारिश में उन्होंने कई गाने गाए। मुझे लगता है कि केके ने मेरी तीन सबसे पसंदीदा रचनाएं गाईं- डायन बाइन, जाने किसके ख्वाब और गुजारिश का टाइटल सॉन्ग।

इन सभी में से मैं जाने किसके ख्वाब को सबसे ज्यादा संजोता हूं। यह मेरे लिए एक विशेष रचना है, जिसे केके के गायन ने और भी खास बना दिया। उसे इतनी जल्दी नहीं जाना चाहिए था।

 

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.